google-site-verification: googlea8156664f9370ae4.html Ideaz unlimited

amazone2

Educational System in India is a Mess


Educational System in India is a Mess



One day a child ask its parents ,' If I want to earn huge money in life which subject should I choose as my first choice?'. After thinking too much parents told to go for Economics, it deals with Money and money related things. The child was very excited….Child choose Commerce with specialization in Economics. He got topper in Graduation. He was a very good student. He never watched any movie, he never made any girlfriend, he didn’t watch TV also. He denied enjoying life since he was focused on his studies.

He was very focused, so he got the result as a Topper with 90+ marks. Now he came in a Job market …to earn money.. he didn’t got any satisfactory job.. nor he could start any business based on his 'Economics' knowledge..

He consulted his parents again.. after thinking too much parents got the conclusion, that graduation is not sufficient he must go for post graduation.. so he did M.Com again he was very focused. He literally gave 22 years of his life to this educational system. Again he got topper. He earned Gold Medal at University. His parents were so proud of him, started dreaming that their son has earned much more money and got listed as one of the richest person in the world… But in vain, as the boy came in a job market he was asked for additional degree like computer skills. He denied and told, I gave my best 22 years of life studying Economics… I got the best knowledge.. but he was not able to got any job, nor did he could start any business depending on his academic knowledge…

He asked his parents again, now parents were unable to answer him. So he consulted Principal of his college. Principal told him to go for Ph.D. again he studied like a maniac. He got the best result.. now the educational system shouted at him and with raised voice offered a Doctorate. Now he became 26 years old. He was very energetic and bold at his 20's he was a good painter from childhood but his parents didn’t allow holding painting brush in his hand.

According to them painting has no career, graduation may give him crores of rupees in his life. Now a child was grown up as a 26 years matured Doctorate Economics degree holder… 

What do you think? Did he able to earn huge money in his life depending on his academics? Because like a mad man he peruse his knowledge…what do you think?.....
??
??
??
He was trained to make analysis of National and World's economy but no book has told him how 'HE' can earn money… Then after giving 26 years of his life to this educational system what did he got?... A frustration.. He then join as a school teacher to earn his bread and butter .. see the 'irony' (find out meaning of 'irony' in dictionary, its wonderful word) of life, the founder and trustee of the school was 4th standard pass local politician..then our hero got married.. - because marriages in India is a social responsibility-. For parents, he got married. Now he has to feed his wife also, along with his parents and brothers and sisters, so he decided to do some part time work… 

He again tried to find out answer for his economic growth. Now he was doctorate, he can better design National and Worlds Economical growth but unable to understand what to do for himself… Then he started lecturing on a coaching class, on highest rate of 350=00    per hour.. 'irony of life'.. the owner of coaching class 10th fail person earning 2 lakh  per month… Wah re Educational System, padhane ke baad hame kya milata hai.. Gulaami…

On a very serious note we have to find out what is wrong with this educational system? Suppose any of this reader may think to do M.B.A. if he or she is willing to do business… but let me tell you after doing M.B.A. you are a bigger slave. (please look at best B School ratings in India, those boyes got 1 Crore package is the best, 20- 30 lakh package is at second number then below 10 lakh  is moderate, where we are asking for training to create business owners.. )You may get highly paid Job. In M.B.A. you are not educated to become an industrialist or a real time businessman, but you are trained to be a Manager. Why it is happening????  because the M.B.A. syllabus is designed by a person who never did any business in his life. M.B.A. books are written by those scholars who never did any business in his life. A book is explained by a teacher.. again is a person who never did any business in his life. Do you still expect a system of slaves can deliver a free Business owning personality?

Unfortunately not !

Let us look at the quality of teachers in India. We have to start from Primary education. A normal ZP, or Municipal school…


Now try to understand who is coming in primary teaching profession?

A student who is 90% and above he is choosing medical profession… a student who is 70% and above choosing Engineering as a profession. 60%+ may go for BSC and will choose corporate sector… A student who is in between 40 to 50% (or repeater in 10th or 12th) chooses teaching as a final choice. 

Yes, some people may argue that some times 80% and above rankers are in teaching field.. oh, then again go for their personal abilities… those intelligent guys have tried corporate sector or changed so many jobs and at the end they have chosen teaching as a profession.. some guys develop physical injury, some guys are lazy enough to do anything in life, some are not able to face competitive corporate world, some might be facing personal economical problem etc… but where are motivated talented teachers? This kind of person gets himself adjusted somehow, to earn bread and butter, without passion of changing educational system.. to think about…

Show me a child at 10th or 12th std thinking to choose lectureship even he is getting 80% and above (who is not facing any problem at personal level…)

Why it is happening in India? How can we create better student if we don’t have better teachers at mass level? The reason is "motivation". Government policies are de-motivating to teaching profession. A teacher was getting respect before 50 years but now teacher is very last part of the society… a municipal teacher or ZP primary school teacher has got burdened with other futile works which has no relevance with teaching.

Age old formula of 10+2+3 is out dated. Education must be life oriented. students who belongs to lower middle class to go for Mobile repairing or plumbing course rather than to go for B.A., M.A., B.Com or etc… because now the trend of earning money is skill oriented. 

If any student asks whether to go for Software Engineering or Hardware Engineering, if he is smart enough to work hard, he must to go for Hardware Engineering and earn everyday 500 to 1000 . and manage a good business. Software Engineering may give a better job option but not independent business ownership at initial stages.

We have to change our total syllabus, it must have life orientation… in our educational system you will be surprised to notice that there is not a single session on child or student psychology… Not a single session by very successful people about How they got success, how they keep themselves motivating in adverse time 

There are good carriers like Politician (Leading the nation from Front), becoming Real Estate Agent or Builders, joining Film industry.. etc where multi millions earning possibilities are there.

Unfortunately our educational system has developed fashion to hate politics.. So, less educated people are choosing it as a profession, and the nation falls in wrong hands. Educational system hates Builders (if I ask parents are you interested in making your child an Architect or a Builder, they will definitely choose an Architect -to work under builder) mass public opinion about builders is..they are "Gundas" where they are actually not. Educational system hates Film industry… why? I don’t know… Our 60% of life is dependent on film industry. We listen old or new hindi songs, we watch TV, we read about film stars. Our educational system at mass level never gives any motivation or proper training to come to this industry. Film industry needs good technicians also. Why only Bollywood? There must be film producing activities in every big city. Every city must have their own powerful entertainment cable channels.  Why to depend only on Stars, Zee or Sony, Sub TV…

"Only Memory" testing is another limitation of our educational system. Unfortunately a person who can remember text i.e. words, and can write it in exam is known as talented person. Creativity, art, leadership qualities are not recognized by present educational system.

The worst part is board exam. If a student is failed to achieve certain marks he is denied to pass and gets punishment to wait till 365 days. Its very cruel system. Our educational system enjoys failing maximum students, not evaluating or guiding student in which subject he is the best…He has to wait till next year. This system must be closed. Exam must be there at the intervals of 90 days that is 3 months time. He, who ever may be, can prepare at any age for any exam. There must be online exam to evaluate student to save time, computers can generate result within few seconds. Since from 8th standard a student can choose his best subject. He can eliminate unwanted subjects. So that he can produce the best out of it. This should be followed till engineering or medical degree. It has been seen an Engineering student got best in his interested subject but unable to get minimum marks in a subject which he cannot understood. And then his carrier is finished for one two or three years.

 I asked many Technocrats that after coming into profession, how many times he has referred his text book to solve any problem? They used to laugh at me with words that academic books are unable to solve any problem (including technical problems) on field, industry itself is a teacher. Degree and knowledge in colleges is only a platform… how can we create a good nation with this kind of training and knowledge? If you are having any emotional problem, family problem, social problem, economical problem can you solve it by opening any text book in whole the giant system the answer is NO! oh what a mess…!

Importance of education.(Hindi blog)शिक्षा स्त्री और पुरुषोंदोनों के लिए समान रुप से आवश्यक है


Importance of education.


शिक्षा स्त्री और पुरुषोंदोनों के लिए समान रुप से आवश्यक है, क्योंकि दोनों ही मिलकर स्वस्थ्य और शिक्षित समाज का निर्माण करते हैं। यह उज्ज्वल भविष्य के लिए आवश्यक यंत्र होने के साथ ही देश के विकास और प्रगति में भी बहुत महत्वपूर्ण भूमिका निभाती है। इस तरह, उपयुक्त शिक्षा दोनों के उज्ज्वल भविष्य का निर्माण करती है। वो केवल शिक्षित नेता ही होते हैं, जो एक राष्ट्र का निर्माण करके, इसे सफलता और प्रगति के रास्ते की ओर ले जाते हैं। शिक्षा जहाँ तक संभव होता है उस सीमा तक लोगों बेहतर और सज्जन बनाती है।


शिक्षा लोगों के मस्तिष्क को बड़े स्तर पर विकसित करती है और समाज में लोगों के बीच सभी भेदभावों को हटाने में मदद करती है। यह हमें अच्छा अध्ययन कर्ता बनने में मदद करती है और जीवन के हर पहलु को समझने के लिए सूझ-बूझ को विकसित करती है। यह सभी मानव अधिकारों, सामाजिक अधिकारों, देश के प्रति कर्तव्यों और दायित्वों को समझने में मदद करती है।


शिक्षा हर मनुष्य के लिए अत्यन्त अनिवार्य घटक है। बिना शिक्षा के मनुष्य को पशु की श्रेणी में रखा जाता है। शिक्षा की जब बात आती है तो आज भी ऐसे सैकड़ों उदाहरण मिल जाएंगे जिससे शिक्षा में असमानता मिल जाएगी। प्राचीन काल में नारी शिक्षा अथवा बालिका शिक्षा का विशेष प्रबंध था, लेकिन कुछ वर्ष पूर्व तक बालिका शिक्षा की स्थिति अत्यन्त सोचनीय थी।


बालिका शिक्षा का हमारे देश में अत्यन्त महत्व है। आज भी हमारे देश में लड़के और लड़कियों में भेदभाव किया जाता है। ग्रामीण क्षेत्रों मे तो लड़कियों की स्थिति सोचनीय हो जाती है। ग्रामीण परिवेश में लोग शिक्षा के महत्व से परिचित नहीं हो पाते हैं। उनकी दृष्टि में पुरूषों को शिक्षा की जरूरत होती है क्योंकि वे नौकरी करने अथवा काम करने बाहर जाते हैं, जबकि लड़कियां तो घर में रहती हैं और शादी के बाद घर के काम-काज में ही उनका ज्यादातर समय बीत जाता है।


आज समय तेजी से बदल रहा है। पुरूषों के बराबर स्त्रियों की भी शिक्षा को प्राथमिकता दी जा रही है। सरकार द्वारा ऐसे अनेक योजनाएँ चलाए जा रहे हैं जिससे बालिकाओं के निःशुल्क शिक्षा की व्यवस्था की जा रही है। लोगों में जागरूकता फैलाने का काम स्वयंसेवी संस्थाएं कर रही हैं। आम चुनावों में महिलाओं को आरक्षण दिया जा रहा है। इन सब ने आज ग्रामीण क्षेत्रों में भी लोगों का रूझान पढ़ाई की ओर कर दिया है। आज की लड़कियां घर और बाहर दोनों को संभाल रही हैं। सरकार द्वारा बालिका कल्याण हेतु अनेक योजनाएँ चलाए जा रहे हैं।


अच्छी शिक्षा जीवन में बहुत से उद्देश्यों को प्रदान करती है जैसे; व्यक्तिगत उन्नति को बढ़ावा, सामाजिक स्तर में बढ़ावा, सामाजिक स्वास्थ में सुधार, आर्थिक प्रगति, राष्ट्र की सफलता, जीवन में लक्ष्यों को निर्धारित करना, हमें सामाजिक मुद्दों के बारे में जागरुक करना और पर्यावरणीय समस्याओं को सुलझाने के लिए हल प्रदान करना और अन्य सामाजिक मुद्दें आदि। दूरस्थ शिक्षा प्रणाली के प्रयोग के कारण, आजकल शिक्षा प्रणाली बहुत साधारण और आसान हो गयी है। आधुनिक शिक्षा प्रणाली,अशिक्षा और समानता के मुद्दें को विभिन्न जाति, धर्म के बीच से पूरी तरह से हटाने में सक्षम है।


इन सब का परिणाम है कि दो दशक पूर्व और आज के बालिकाओं की स्थिति की तुलना करें तो हमें क्रांतिकारी परिवर्तन दिखाई पड़ेंगे । आज का समाज तेजी से बदल रहा है। आज महिलाओं को पुरूषों के समकक्ष माना जा रहा है। बालिका शिक्षा से आज देश प्रगति की ओर बढ़ रहा है। बाल विवाह, दहेज प्रथा, महिला उत्पीड़न जैसी घटनाओं में कमी और जागरूकता आयी है। महिलाओं को समाज के अभिन्न अंग के रूप में पूरे विश्व में स्वीकार किया जाने लगा है। अतः हम पूरे विश्व में कहीं भी चले जाएंगे ऐसे परिवर्तन दिख जाएंगे ।


literacy policy in India हमारे देश से निरक्षरता को सरकार निरंतर मिटा रही है।


literacy policy in India




हमारे देश से निरक्षरता को सरकार निरंतर मिटा रही है। परन्तु विचार यह करना है कि हमारी वर्तमान शिक्षा प्रणाली कैसी है और वह किस प्रकार के जीवन का निर्माण कर रही है तथा शिक्षा वास्तव में कैसी होनी चाहिए।
आज की हमारी शिक्षा व्यवस्था वास्तव में ऐसी शिक्षा-दीक्षा का विधान करना होगा जो हमें स्वयं अपने ऊपर विजय प्राप्त कर सकने में समर्थ बना सके। ज्ञान का अन्तिम लक्ष्य सुंदर चरित्र का निर्माण होना चाहिये।
    विविधताओंसे भरे भारत देश के जनतंत्र को सफल बनाने के लिए प्रत्येक बालक को सच्चा, ईमानदार तथा अच्छा नागिरक बनाना परम आवश्यक है | अत: शिक्षा का परम उद्देश्य बालक को जनतांत्रिक नागरिकता की शिक्षा देना है | इसके लिए बालकों को स्वतंत्र तथा स्पष्ट रूप से चिन्तन करने एवं निर्णय लेने को योग्यता का विकास हो, जिससे वे नागरिक के रूप में देश की राजनीतिक, सामाजिक, आर्थिक तथा सांस्कृतिक सभी प्रकार की समस्याओं पर स्वतंत्रतापूर्वक चिन्तन और मनन करके अपना निजी निर्माण लेते हुए जीवन व्यतित कर सकें ।  संकुशल जीवन-यापन कला की दीक्षा यह शिक्षा का दूसरा उद्देश्य बालक को समाज में रहने एवं सकारात्मक समाज निर्माण के कार्य मे मदद करेगा | एकांत में रहकर न तो व्यक्ति जीवन-यापन कर सकता है और न ही पूर्णत: विकसित हो सकता है | उसके स्वयं के विकास तथा समाज के कल्याण के लिए यह आवश्यक है कि वह सहअस्तित्व की आवश्यकता को समझते हुए व्यवहारिक अनुभवों द्वारा सहयोग के महत्व का मूल्यांकन करना सीखे | इस दृष्टि में अनुशासन तथा देशभक्ति चेतना आदि अनेक सामाजिक गुणों का विकास होना चाहिये जिससे प्रत्येक बालक इस विशाल देश के विभिन्न जाति धर्म प्रदेश भाषिक वैविध्यताओंके साथ प्रत्येक व्यक्ति का आदर करते हुए समाज मे साथ घुलमिल कर रहना सीख जायें ।
बालकों में व्यवसायिक कुशलता की उन्नति यह शिक्षा का तीसरा उद्देश्य है | इस उद्देश्य को प्राप्त करने के लये तांत्रग्यानिक एवं व्यावसायिक प्रशिक्षण की आवश्यकता शुरु से ही है | अत: बालकों के मन में श्रम के प्रति आदर तथा रूचि उत्पन्न करना एवं हस्तकला के कार्य पर बल देना परम आवश्यक है | यही नहीं, पाठ्यक्रम में विभिन्न व्यवसायों का भी उचित स्थान समझाना चाहिये । जिससे प्रत्येक बालक अपनी रूचि के अनुसार उन व्यवसायों को चुन सकें जिसे शिक्षा समाप्त करने के पश्चात वो अपने जीवन का लक्ष्य बनाना चाहता हो । पढाई का एक धेय्य, जीवन कालक्रमणा के लिये सम्पत्ती का निर्माण भी है। सम्पत्ति का निर्माण करते हुये समाज मान्य संसाधन एवम देश हित से उसे अंजाम दिया जाय यह हेतु शिक्षा का होना ही चाहिये। जिसके कारण आगे चलकर अलगाव वादि विचारधारा प्रकट ना हो। देश मे भाईचारा एकता बने रहे इसी उद्देश से पाठ्यक्रमोंकी रचना होना जरूरी है। सद्य स्थिति के पाठोंके उपर और ज्यादा संशोधन कि आवश्यकता है।  

 बालक के व्यक्तित्व का सम्पूर्ण विकास शिक्षा का चौथा उद्देश्य है | व्यक्ति विकास का तात्पर्य बालक के बौद्धिक विकास, शारीरिक, सामाजिक तथा व्यवसायिक विकास आदि सभी पक्षों एवं रचनात्मक शक्तियों के विकास से है | इस उद्देश्य के अनुसार बालकों को क्रियात्मक तथा रचनात्मक कार्यों को करने के लिए प्रेरित करना है। साहित्यिक, कलात्मक एवं सांस्कृतिक आदि अनेक प्रकार की रुचियों का निर्माण हो जाये तथा आधुनिक शास्त्रो के प्रति रुचि निर्माण करने के लिये विशेष प्रयत्न होना जरूरी है।
प्रसार माध्यमोंसे भी ज्यादा समाज-माध्यमोंका आनेवाली पीढियोंपर सकारात्मक एवं नकारात्मक दोनो असर नजर आ रहा है। नये बालकोंकि पीढी नेट, मोबाईल, टी.वी के मायाजाल मे फसती हुयी नजर आ रही है। जिसके गुण दोषों की चर्चा पाठ्यपुस्तकोंमे होना जरूरी है। क्योंकि तेजी से बदलनेवाले समाज को निश्चित दिशा कोई दिखायेगा तो वो हमारी विशाल शिक्षा प्रणालि है।

कैसे टॉप करे बोर्ड एक्झाम में Be a Topper


कैसे टॉप करे बोर्ड एक्झाम में


1. लक्ष्य निश्चित करे: कोई भी काम निश्चित धेय के बगैर नही होता. आज ही निश्चित करे कि आपको कलेक्टर बनना है, डॉक्टर बनना है, या जो भी अपनी पसंद का करीयर चुनना है. 'मार्क्स के उपर निर्भर करता है' यह मानसिकता छोड दिजीए. मार्क्स तभी अच्छे आते है जब 'हम' दृढ निश्चय करते है.

2.स्वयम प्रेरणा: अपने आप को कुछ करके दिखाना है. माता पिता का नाम रोशन करना है. कुछ इतीहास रचाना है, यह मन मे ठान लीजिए. माता पिता बोल रहे है इसीलिये पढाई कर रहे है यह सोच गलत है. अपने अंदर कामयाबी पाने कि ज्वाला जगा दीजिए.

3.समय सारिणी: खुद कि पढाई का शेड्युल खुद बनाईये. उसे अमल मे लाईये. कठीन विषयोंको पहले निपटा लिजीए. आसान विषय बाद मे भी पढ सकते है.सम्पूर्ण चौबिस घंटे कि समय सारिणी तैयार कीजिए.

4. नकारात्मक मित्रोंसे बचे: कुछ विद्यार्थी नकासात्मक सोच के होते है. वो आपको भी अपने धेय से विचलित करा सकते है. उनसे सावधान रहिये. "बडे सपने मत देख, तुम्हे इतने मार्क्स नहीं आयेंगे" ऐसी दुष्प्रेरणा देने का वो काम करेंगे, उनसे बचिये.

5.नींद: 'सपना देखने के बाद जिसकी नींद उड जाती है वो ही कामयाब होता है'. सम्पूर्ण नींद हमारे मस्तिष्क के लिये अति आवश्यक है. अन्यथा परिक्षा के दरमियान आपका मस्तिष्क सुस्त रहेगा.और नतिजे गलत आयेंगे. 6 घण्टे कि सम्पूर्ण 'गहरी नींद' परम आवश्यक है. गहरी अवस्था मे ही आपकी याद शक्ति बढ जाती है. गहरी नींद के लिये प्राणायाम, योग एवम ध्यान करे.

6. आहार: कई बच्चोंको जब भी तनाव महसूस होता है तब उनका हाजमा बिगड जाता है. इसीलिये माता पिता ध्यान रखे कि बोर्ड इक्जाम पूर्ण होने तक घर मे सात्विक भोजन रहे. जिसमे तली हुयी चीजे, आचार, बर्गर, मांस ज्यादा चटख मसालेदार पदार्थ, जिससे एसीडिटी होती है ऐसे ना हो. पेट साफ रहना अच्छी याद शक्ति के लिये परम आवश्यक है. कुछ बच्चे नींद ज्यादा नही आये इसीलिये ज्यादा चाय या कोफी पीते है, जो गलत है. इसकी जगह पर थोडा गरम पानी पीजिए.

7. भावनाओपर नियंत्रण: अपना गुस्सा या मूड पर नियंत्रण रखे. बोर्ड इक्जाम कि वजह से परिक्षार्थी घर मे तानाशाह जैसा बर्ताव करके सबको झुकाने लगते है, ऐसा ना करे. माता पिता भाई बहन इनका उचित सम्मान करे. क्योंकि अगर अपेक्षाकृत परिणाम नही निकले तो यही लोग आपको सम्भालनेवाले है.

8.मोबाईल एवम टीवी से दूर: आजकल मोबाईल और टीवी मानो इंसान के जिंदगी का महत्वपूर्ण हिस्सा बन गया है. लेकिन बोर्ड इक्जाम तक इन दोनो से हो सके उतना दूर रहना है. क्योंकि इन इलेक्ट्रोनिक गेजेट्स से निकलनेवाली किरणे हमारे मस्तिष्क के लिये बेहद खतरनाक होती है. जो हमारे सोचने कि शक्ति को बुरी तरिके से प्रभावित कर सकती है.

9. तनाव व्यवस्थापन: तनाव के अंदर ही कोई भी इंसान बेहतर परिणाम दे सकता है. लेकिन अतिरिक्त तनाव आपके जिंदगी को खत्म भी कर सकता है. कुछ बच्चे इतना तनाव लेते है, कि उनके मनमे आत्महत्या के विचार आते है, कुछ तो इसे अंजाम भी देते है. जब भी तनाव महसूस होगा तो किसी न किसी से बात कीजिए. मन मे गलत विचार आते है तो वो भी दुसरे को बता दीजिए. जिंदगी बहोत कीमती है, बोर्ड इक्जाम से भी ज्यादा...

स्वयम सूचना; एक ताकत How to appear for board exam


स्वयम सूचना एक ताकत


परिक्षा के नियंत्रित महोल मे परिक्षार्थी का मानसिक संतुलन बिगडनेसे कम मार्क्स आते है. प्रश्न होता कुछ अलग है, समझा कुछ अलग जाता है और उत्तर कुछ अलगही लिखा जाता है. कभी कभी अतिरिक्त मानसिक दबाव के कारण 'हेल्युसिनेशंस' आते है. जिसके अंतर्गत चीजोंको मूल रूप से जानने के बजाय हम जो सोच रहे है उस नजरिये से हम देखने का प्रयास करते है. जबकी सच्चाई कुछ और ही होती है.

ऐसेमे परिक्षार्थी को सौ प्रतिशत यकीन होता है कि जो उसने लिखा है वो सही है, जबकी ऐसा नही होता.

क्योंकि बोर्ड, विद्यार्थी के ग्यान को नही परखता, यहा पर विद्यार्थी को 'बोर्ड के पेपर सेटर' के अनुसार उसी दायरे मे वही लिखना पडता है, जो उसके पाठ्यक्रम मे है. विद्यार्थी इस समय केवल परिक्षार्थी है, जो नंबरोंकी होड मे खो गया है. मन कि एकाग्रता को भंग करनेवाली एक अंदरुनी चीज है, वो है बहोत सारे विचार एक ही वक्त पर आना. जिसके कारण 'कनफ्युजन' पैदा हो जाता है. फिर सोचते सोचते वक्त निकल जाता है.

'कनफ्युजन' कि स्थिती मे उस प्रश्न को छोड दीजिए. आसान प्रश्नोंसे फटाफट शुरू कीजिए. फिर कठीन सवालोंकी तरफ जाये. कनफ्युजन वाले सवालोंके जवाब आखिर में लिखे. लेकिन किसी भी हाल मे लिखे जरूर. पेपर खाली नही छोडना है. क्योंकि कई बार आपने जो लिखा वो सही उत्तर हो सकता है.

ध्यान रहे, परिक्षा आपको फेल करने के लिये नही है, इसलिये अपने मनसे गुणोंको लेकर वृथा चिंता को निकालकर फेक दीजिए. अपने मन को निगेटिव सजेशंस नहीं दे. नकारात्मक सजेशंस हमेशा इंसान का आत्मविश्वास घटाते है. मै फेल हो जाऊ तो? मै अच्छे गुण नही ला सकी/सका तो? मेरे मम्मी पप्पा कि अपेक्षा पर खरा नही उतरा/उतरी तो? पेपर टफ़ आया तो? मुझे कुछ याद ही नही रहता, क्या करू? अचानक मै ब्लेन्क हो गयी/गया तो? इस प्रकार के विचार आपके याद रखने की क्षमता के उपर विपरीत असर डाल सकती है.

मन मे सकारात्मक विचार रखिये. अपने आप का हौसला बढाते रहे, मन मे ये विचार रखे, कि मुझे सब कुछ अच्छी तरह से सबकुछ याद है. मैं जीतकर दिखाउंगा/दिखाउंगी ही. मुझे आज अच्छा महसूस हो रहा है. मेरा मन आज बहोत प्रसन्न है. मैंने सब सही पढाई की है. आज का पेपर बहोत आसान होगा ही. ऐसे विचार मन मे रखे.

परीक्षा के बाद जो हुआ उस पेपर की चर्चा नही कीजिए. आनेवाले पेपर के बारे मे सोचिये. किसी ने भी पूछा कि पेपर कैसा था तो, ठीक था, जैसे तैसे था, देखते है ऐसे जवाब नही दीजिए. ऐसा कहिए, पेपर एकदम बढिया था., मैंने अपना पूरा योगदान दिया है. या यू कहीए 'बहोत बेहतरीन था.' यह सकारात्मक दृष्टिकोण आपके अंतर्मन को आने वाले पेपर के लिये और ज्यादा ऊर्जा देगा.

आपके मन को प्रसन्न रखने के लिये जरूर अपने ईष्ट देवी देवताओं को याद कीजिए. ऐसा करने से दोलायमान मन स्थिर हो जाता है. देवी देवताए हमारे लिये कुछ चमत्कार नही करते लेकिन उनके नामस्मरण से हमारा हौसला बढता है तो जरूर उनका ध्यान करे. ऑल द बेस्ट

www.ideazunlimited.net

Shri yantra, Shri vidya (Hindi blog)



Shri yantra, Shri vidya 


ideazunlimited.net
Shrividya vanchha kalp ganapati

'श्री विद्या एक प्राचीन' शास्त्र है, जिसमें अक्सर मेरु यानी 'पर्वत' या मेरू पर्वत की पूजा की जाती है. शाक्त परम्परा और शैव परम्परा दोनो मे पर्वतोंकी पूजा होती है. शैव परम्परा शिवजी को अक्सर 'कैलाश पर्वत' के साथ जोडती है. जहाँ शाक्त परम्परा यह मानती है, कि आदि शक्ति माँ स्वयम 'पर्वत' है. इसीलिये 'मेरु लक्ष्मी' को पूजा जाता है. वैदिक काल के बाद जब पुराण काल का उदय हुआ तब शाक्त और शैव परम्पराओंका मिलन हुआ. भगवान शिव जी मंदिरोन्मे 'शिवलिंग' के रूप मे पूजे जाते थे. उनका सिर्फ अकेले सन्यस्त रूप पूजा जाता था. (नव) नाथ परम्परा में तो शक्ति (स्त्री) का मुख देखना भी निषिद्ध माना गया.

लेकिन पुराण काल में देवी देवताओंके 'पारिवारीक' रूपोंका पूजन होने लगा. गणपती भगवान जो स्वयम सिद्ध है, बालक का रूप लेकर माँ पार्वती के गोद मे जाकर बैठ गये और शिवजी तांडव या उग्र रूप छोडकर 'सौम्य' मुस्कुराते हुये 'पिता' एवम 'पारिवारिक' रूप मे आ गये. अब घर घर मे शिवजी के परिवार के चित्र की पूजा होने लगी.

वहाँ स्वयम वायुपुत्र हनुमांनजी अकेले होते है तो अत्याधिक बलशाली होते है, जो पर्वत को हाथ मे उठाये मंदिरोमे पूजे जाते है. लेकिन जब वो श्रीराम जी के मंदिर मे होते है, तो घुटनोंके बल सौम्य रूप मे पाये जाते है. श्रीराम जी, माता सीता के साथ शायद लक्शमणजी होंगे या नही लेकिन हनुमान जी जरूर होते है. लेकिन शिवजी के पुत्र गणेश को जो स्थान परिवार के साथ मिला वो लव और कुश को श्री राम और माता सीता के साथ 'पारिवारिक' पहचान के साथ नहीं मिल पाया.

यहाँ तक कि भगवान कृष्ण के साथ राधाजी को मंदिरोंमे स्थान मिला लेकिन ये स्थान उनकी दोनो पत्नियाँ, या भगवान कृष्ण के बेटोंको नहीं मिला. इससे विपरीत गणेशजी के साथ रिद्धी, सिद्धी को स्थान मिला.
आगे चलकर पुराण काल मे ही शिवजी और पार्वती मैया का अर्धनारिनटेश्वर का रूप पूजा जाने लगा. जो प्रथा दक्षिण मध्य भारत से शुरू हुयी और उत्तर भारत तक पहूंची. जहाँ तक दक्षिण भारत का सवाल है, 'नम्बुदरिपाद' ब्राम्हणोंके कुछ गुरुओंको स्वयम्भू गणपति ने माता लक्ष्मी के रूप मे दर्शन दिये. जिनके बारह हाथ है. जो माता का 'मेरु' रूप पूजते थे. गणपतिजी का माता लक्ष्मी के रूप मे पूजा जाना एक विलक्षण घटना थी. लेकिन भारत के उत्तर प्रांत मे यह रूप जा न सका, क्योंकि बीच मे 'महाराष्ट्र' है. 'महाराष्ट्र'के सबसे बडे हिंदु राज्य शासक 'छत्रपति शिवाजी महाराज' स्वयम शक्ति के पूजक थे, 'माता भवानी देवी, माता अम्बा' ये उनके बलस्थान थे. परंतु शिवाजी महाराज के पश्चात 'पुणे' के पेशवे राज्य पर आये, उनका आराध्य दैवत था, गणपती जी, जो अकेले मंदिर मे पूजे जाते थे. इसीलिये महाराष्ट्र मे ज्यादा करके सिर्फ और सिर्फ गणपती जी को अकेलेही पूजा जाता है. जैसे कि किसीभी अष्ट विनायक के मंदिर की मूर्ति.
इन मंदिरोन्मे गणपतीजी के 'लक्ष्मी' रूप का विरोध हुआ. इसीलिये यह रूप वही पे रुक गया. प्रांतो का विचार करे तो गुजरात और राजस्थान मे भगवान कृष्ण के राधाजी के साथ मंदिर ज्यादा मिलेंगे. महाराष्ट्र मे गणपती जी के मंदिर ज्यादा मिलेंगे
उत्तर और मध्य प्रदेश में श्रीराम के मंदिर ज्यादा मिलेंगे. कोलकता, उडीशा मे माता दुर्गा देवी एवम काली माँ के मंदीर ज्यादा मिलेंगे. साऊथ इंडिया मे जगन्नाथ और अयप्पा के मंदीर ज्यादा मिलेंगे.

लेकिन हम सब एक मजेदार युग से गुजर रहे है, जहाँ पर हमारी परमपराओंको लेकर हम अति-सनातन नहीं है. हमारी जिग्यासा अब अलग अलग प्रांतोमे एक ही देवता के अलग अलग रुपोंको जाननेकि है. अब गणपती महोत्सव गुजरात मे भी होते है, और महाराष्ट्र में भी रास-गरबा का आयोजन होता है. जगन्नाथ रथ मध्यप्रदेश मे भी होता है, और रामलीला आंध्रप्रदेश में भी.. इन्ही विशाल जानकारियोंके साथ मैंने गणपतीजी का "लक्षी" रूप शेयर किया, जो बैथे हुये नहीं, खडे है, और ध्यान से देखे ये खडे भी नहीं, चलने कि मुद्रा मे है. जिनके हाथ में हरा गन्ना, गेहूँ, फल, त्रिशूल,माथे पर चांद (भगवान शिवजी का प्रतिक) गदा, सुदर्शन चक्र,(भगवान विष्णुजी का प्रतिक) सब कुछ है,है, जिसे "श्री विद्या वांछ कल्प गणपती" के नाम से जाना जाता है... इनकी पूजा करके तो देखिये बडे अद्भुत परिणाम मिलते है. हरीॐ .. 

One Day Destination "Science Center" in Surat


One Day Destination "Science Center" in Surat


www.ideazunlimited.net
Science Center




"सरदार वल्लभभाइ पटेल सायंस सेण्टर"


अगर आप अपने परिवार के साथ कुछ बेहतरीन समय गुजारना चाहते है, तो आपके लिये सायंस सेंटर से बेहतर विकल्प नही है. करीब बाईस हजार स्क्वेअर मीटर मे फैला हुआ यह सेण्टर बहोत विशाल आफ सुथरा और आधुनिक वस्तुएँसे लैस है. इस सेण्टर मे अगर देखने लाअयक कुछ चीज है तो वो प्लेनेटोरिअम. ऐसी फिल्म आपने देखी न होगी. जिसमे पर्दा आसमान कि तरफ होता है. हमे आराम से पैर लम्बे करके सो जाना होता है. और फिर फिल्म शुरु होती है.

 और ग्रह तारोंके बारे मे जो जानकारी मिलती यह, यह अनुभव बहोत लाजवाब होता है. इसमे गुजराती, हिंदी, इंग्लिश ऐसी भाषाओन्मे शो होते है. अपना टाईम एडजस्ट करके देख लिजिये. सिर्फ बच्चोंके लिये ही नही, परिवार के सभी सदस्योंके लिये यहाँ जाना बहोत जरूरी है. जब लाईट्स ओफ़ होकर पहला सीन शुरू होता है, आप इस दुनिया मे नही रहते, इतना रोमांचक यह अनुभव होता है. करीब चालिस मिनट कि यह फिल्म फिल्म नही है. बहोत सारी जानकारी का यह खजाना है.

कुछ सालो पहले करीब पचास करोड कि लागत से बना यह सायंस सेंटर सूरत म्युनिसिपल द्वारा मेंएज किया जाता है. यहाँ का स्टाफ अत्यंत सहकारशील है.

पहले माले के सायंस सेण्टर मे फिजिक्स के अनेक अनेक मजेदार खेल है. इनमे एक मजेदार खेल है बीचोबीच मे एक विशाल सरकती हुयी गोटीयोंका. यहाँ सत्रह मिनट तक आप खडे ही रहते है. बाकी हर एक जगह कैसे खेले उसकी सूचनाये दी हुयी है, उन खिलौनोंके साथ जरूर खेलिये. गायब हो जाना, परछाई का रंग बदलना, पाईप से आवाज, हवा के दबाव के चमत्कार ऐसे ना जाने कितने खिलौनोंके साथ घंटे बीत जाते है.

अंदर एक एम्फी थिएटर भी है. और उससे भी बेहतरीन है, म्युजियम. बहोत ही विशाल इस म्युजियम कि वास्तु रचना अत्यंत अनोखी है. प्राचिन से लेकर अर्वाचिन तक बहोत सारी चीजे यहाँ देखने के लिये मिलती है. ऐतीहासिक चीजोंका तो यहाँ पर खजाना है.

जिसे देखकर आपको मजा आयेगा, वो इस म्युजियम के अंदर का छोटासा "टाईनी' फिल्म रूम. एक छोटेसे रूम मे 15/20 आदमियोंके लिये बैथने कि सुविधा है, यहाँ सूरत शहर का इतीहास जिंदा हो जाता है. सूरत शहर का गौरवशाली इतीहास पर्दे पर आता है, तो हमारा सीना चौडा हो जाता है. कितनी सारी बाते इस शहर के बारे मे हम नही जानते, ऐसा यह छोटी फिल्म देखने के बाद लगता है.
जिन्हे कला और पेण्टिंग मे रुची है, उनके लिये यहाँ एक विशाल कला दालन है. जिसमे अलग अलग कलाकारोंकि पेण्टिंग्स आप देख सकते है. अगर वो कलाकार मौजूद है तो आप उनसे अधिक जानकारी भी हासिल कर सकते है.
पार्किंग कि सुविधा उपलब्ध है. खान पान कि व्यवस्था बेहतरीन है. हाँ लेकिन ध्यान रहे फिल्म देखना और सायंस सेंटर देखना हर एक व्यक्ति के लिये 50 से 200 रु तक होता है. लेकिन किसी भी फिल्म को देखने के लिये जायेंगे तो इतना खर्च आता ही है. सूरत महानगरपालिका का बेहद सुंदर उपक्रम है यह. 
      
please visit www.ideazunlimited.net

जानिये बोर्ड कि परिक्षा देने कैसे जाये




ideazunlimited.net
exam hall


विद्यार्थी मित्र कृपया ध्यान दे, बोर्ड कि परिक्षा आपको ‘फेल’ करने के लिये नहीं है. बोर्ड कि परिक्षा आपके व्यक्तित्व को निखारने के लिये है. जो ग्यान आपने हासिल किया है, उसका यह मूल्यांकन होता है. क्योंकि हीरा अपनी खुद की कीमत तय नहीं कर सकता, उसके लिये जोहरी की जरूरत होती है. अभीभावक ने किस दरज्जे का ग्यान हासिल किया है इसे बोर्ड कि परिक्षा तय करती है. मेहनती और प्रामाणिक युवाओं के लिये जीवन मे कुछ कर गुजरने के लिये यह परिक्षा एक वरदान होति है वही अप्रामाणिक, ’शोर्टकट’ ढूंढनेवाले युवाओंके लिये यह डरावनी होती है.

जैसे भारतीय संविधान के सामने सभी एक समान होते है, उसी प्रकार से बोर्ड एक्जाम सिस्टम सभी समाज को एक कतार मे लाकर खडा करता है. जहा कोई अभिभावक आलिशान कार से आयेगा, कोई स्कूटरपर तो कोई साईकल पर. लेकिन यह परिक्षा अमीर और गरीब नहीं पहचानती, यह पहचानती है तो बस विद्यार्थी का टेलेण्ट. पेपर को चेक करने वाले शिक्षक को यह मालूम नही होता कि वो पेपर किसने लिखा है, वो तो ‘न्यायाधीश’ के जैसे केवल तथ्यों पर आधारित अपना फैसला सुनाता है.

इस देश को चलाने के लिये टेलेण्टेड युवाओंका चयन इस प्रक्रिया मे होता है. देश के निर्माण मे इंजिनीयर्स, डाक्टर्स, टीचर्स ऐसे अनगिनत प्रतिभावान लोगोंकी जरूरत होती है. उन प्रतिभाशाली युवाओं का चयन करके गुणोंके द्वारा उन्हे अपने अपने क्षेत्र कि लीडरशीप दी जाती है. क्योंकि अनेक व्यक्तियोंका समूह बनकर राष्ट्र बनता है.

बोर्ड कि परिक्षा मे बईमानी करके जब विद्यार्थी अच्छे गुण प्राप्त करते है, तो आगे चलकर वह जिम्मेदार नागरीक नही बन पाते है. ऐसे लाखो लोग, जो बईमानी से पास होते है, जिस क्षेत्र में, या देश में होते है वो क्षेत्र या वो देश पिछड जाता है. इसलिये उचित गुणवानोंको चुनने कि यह प्रक्रिया है जिसका नाम है, बोर्ड कि एक्जाम.

कृपया परिक्षा को शत्रु ना समझे; यह तो आपका साथी है जो आपको कामयाबी तक लेकर जायेगा. जीवन रुपी दरिया को पार करने के लिये परिक्षा एक ‘नैय्या’ है, जिसके आप स्वयम अपने ही ‘माँझी-खिवय्या’ है. जिसमे जितना दम उतना वो आगे तक जायेगा. आपके माता-पिता, शिक्षक सब पीछे किनारे पर रहकर आपका हौसला बढायेंगे लेकिन मझधारसे इस नैय्या को आपकोही पार लगाना है. क्योंकि उस पार जब आप पहूंचते हो तो सिर्फ और सिर्फ आप ही कामयाब होते हो.

परिक्षा के पहली रात अच्छी नींद ले. ज्यादा से ज्यादा ग्यारह बजे तक पढे. मन शांत रखिये. सुबह को जल्दी उठिये, फ्रेश होकर भगवान कि पूजा, आरती किजिये. अगरबत्ती कि खुशबू हमारे मन को प्रसन्न बनाती है. किसी के उपर गुस्सा नहीं करे. परिक्षाखण्ड मे जाने के लिये आवश्यक ‘पहचान पत्र, पेन, पेंसिल’ सुबह ही भरकर रखिये. नये जूते, नयी घडी, नये कपडे ना पहने. इससे असहजता महसूस होती है और ध्यान हट जाता है. दोस्तोंके साथ फोन पर या प्रत्यक्ष चर्चा ना करे. सम्पूर्ण ध्यान अपने उपर ही फोकस करे. अपने आप के उपर विश्वास रखे. जो भी आपने पढा है उसे दृढता पूर्वक उत्तर वही मे लिखे. आप कामयाब होंगे ही.
visit ideazunlimited.net

Do you have Back pain, Lumbar pain, waist pain , Knee pains? Read it


Do you have Back pain, Lumbar pain, waist pain , Knee pains? Read it
Do you have Back pain, Lumbar pain, waist pain , Knee 
pains? Read it



www.ideazunlimited.net
www.ideazunlimited.net

Every woman, after her first issue or after the age of thirty five, starts pains in her back, waist and knees. Its very interesting to know its reasons.
First we will see reasons behind ‘woman back’ pain. Humans are mammals, all mammals walk on four legs but humans use two legs to balance body.
During puberty a human female has to carry breast weight up to 50 grams each. Then during pregnancy breast weight starts to increase goes up to 500 grams to 750 grams per breast, which she has to carry then for lifetime.

Unfortunately breasts have no muscles for self support. It has only milk cells and fats. Back muscles are used to hold this weight. Since this one kg or one and half kg weight is suppose to fall down due to gravity, back muscals gets stretched.

During pregnancy four leg mammals female can balance increasing weight in womb easily. But this is not with human female, she has extra stretch on her waist. A mother has to feed life in womb so her body creates extra weight and fats, which unfortunately then saturates on breast, waist, hips..

After the delivery she has to feed her child. When a child is small mom has more milk to feed. As child grows, gets power in mouth muscles, inversely moms gets less milk in her breast. Then child tries to suck with force, stretches back muscles, and hence results into back pain.

After delivery or after the age of thirty five woman bones becomes more porous and weak. A male bone gets weaker after the age of fifty five.

During delivery woman bones gets detached from each other to deliver a child up to twelve to fourteen inches, where it was only two to three inches wide. While labor pains her L1, L2, L3, L4 ----------gets permanently damaged, results into continues pain.
Pain in knees has three reasons, first is due to nature, second is due to lifestyle, and third is due to daughter in law.

Woman has lumbar part bigger than male, to carry child. When she is at the age of fourteen her paw size stops increasing in size. Now the foot ware size is fixed for her for rest of the life. Then even if she gains weight up to hundred kgs her paw remains at fix size; rule of moment of inertia applies and she stars pains in knees. If we compare male paw size, it increases with body weight, so they have less knee problems.

Second reason is with modular kitchen. A scientist who changed human life style is Harmon Miller, who designed modern furniture including revolving chair. Till then Indian women were using Chulha and burning wood to prepare food. She used to sit on ground for washing utensils, cutting washing food, actually cooking then serving food was four hours activity performed by sitting on ground.

Keep in mind human is a sitting animal; it cannot stand like horse or ox.
Within last thirty years, cooking gas and modular kitchen became integral part of modern living. And we made two mistakes. First, we asked Indian woman to stand in kitchen, still our food habits are two hundred years old. Americans used to cook food for few minutes in microwave oven. Indian woman cook food for four hours. Indian kitchen also has microwave oven but it is only used for roasting Papad. An average woman stands in kitchen at five thirty in morning till twelve o clock, then she has to make bedroom, kids room, hall in proper order which goes on up to 2 pm. Then she takes lunch and rests till 4 pm. Again she stands in kitchen up to 11.30 pm in night. 8.5+ 7.5= 16 hours daily. An average woman runs in her 600 sq feet house around 19 kilometers in those 16 hours. Then she has to ‘satisfy’ husband also, makes her to sleep around 1 in night..And alarm rings at 5 a.m…..

If anyone has daily routine to stand for 16 hours continuously without any holiday, and to walk around 19 kilometers, for at least 25 to 30 years what will happen to the knees?  
Now we will come to the technical part, height of the kitchen platform is 30 inches…who decided this? No Indian architect is studying this; we are blindly following what western scientist did for them… A science to design furniture (considering human body) is known as ‘Ergonomics’. For this, samples of thousands of humans are taken and an average was decided that is height of a chair must be 17 inches from floor, depth of a chair must be 18 inches, arms must be at 9 inches etc. for this sample of European race population was taken, where average height of a male is 6 feet female is 5.6 feet. So they have comfortable kitchen platform of 30 inches in height. Where they have gas stove embedded inside the platform. 

Let’s come to Indian people. Indian male has average height of 5.6 feet; female has 5 feet average height, so while working on 30 inch platform their shoulders are in air.
 There are four kinds of races in the world- European, Asian, Mongolian (Japanese, Chinese) and Negro. Mongolian males are 5 feet in average, female at 4.5 feet in average. African Negroes male are 4.5 feet in average female at 4 feet in average. American Negroes male are 6.5 feet and female are 6 feet in height.)  

Indian kitchens have gas stove which has 6 inch height and roti-making round stand also has 3 inch height. If a woman is below average height, she will definitely have damaged knees.

While making platform no mother, or wife or sister is called up to measure platform height according to her, since she has to work on it.. Surprising, isn’t it?
Again she has to bend forward while washing cooking or other preparations. This bend is at back and at knees. Now continues wrong posture gives pains in back and knees. American woman has one more thing in her kitchen, i.e. height adjustable stool. If you try to give it to Indian woman she will laugh at you….

Third reason is, socio-psychological. When son gets married daughter-in-law enters in kitchen. For last thirty years a lady called mom has demarked her kingdom known as kitchen. Even her husband and grown up boys are not allowed to enter in side. She serves everything to them in hall or bedroom. Now new lady enters inside her kingdom. Everyone says now, ’you get retired from kitchen work and rest a while’. But from inside she feels unsecured. Nature has given a quality to every female, that by default she will not tolerate another woman.

New dulhan (bride groom) is a center of attraction for everyone. Now female ‘in’ mother-in-law gets disturb, and to attract her son, husband or other family members she starts complaining about knee pain. Such patient visits doctor then, every report is nil. Then this lady says, ‘doctor has lost his sense, he is wrong I am paining’… many times it is seen that such ladies even go for knee replacement surgery also… why? …Only to fetch attention of others. This might not be the case every time, but consider this factor also.   
    
Back, Lumbar, waist, Knee pains manager has miraculous power to cure. Worldwide aroma therapy balms and creams are used with touch and massage therapy. Unfortunately aroma therapy gives relief for few minutes. But we are here discussing about extreme level pains when patient is advised for surgery.
 Those medicines are so powerful that with guarantee it will avoid surgery. It has cosmic power of Reiki and miracle of Mantrajaap. 

अगर आपको घुटने में पीठ में दर्द है, और आप एक महिला है, तो इसे जरूर पढे


अगर आपको घुटने में पीठ में दर्द है, और आप एक महिला है, तो इसे जरूर पढे


www.ideazunlimited.net
knee pain

  भारतिय महिलाओमे यह पाया गया है कि, करीब करीब पैतीस साल कि उम्र के बाद, या एक या दो डिलिवरी के बाद  घुटने का दर्द, पीठ दर्द यह एक आम समस्या है. आज हम इस पीडा के बारे मे जानकारी हासिल करेंगे.

  इन पीडाओंका राज छुपा है हमारी लाईफ स्टाईल में. याद किजीय कुछ ज्यादा वक्त नहीं गुजरा है, हमारी नानी माँ या दादी माँ कैसे खाना पकाती थी? लकडी के चुल्हे के उपर (या अंगिठी के उपर) और यह सब क्रीया जमीन पर बैठकर होती थी. आजसे करीबन पच्चीस तीस साल पहले हमारे जीवन मे एक विशाल परिवर्तन आया, कुकिंग गेस. अब महिलायें खडी होकर काम करने लगी. ध्यान दीजिए, मनुष्य बैठनेवाला प्राणी है. घोडा या हाथी के जैसा खडा रहनेवाला प्राणी नहीं है.

  तीस चालीस साल पहले हम बच्चोंकी स्कूल दस से पाँच की होती थी. लेकिन पिछले पच्चीस सालोंमे 'अंग्रेजी' माध्यम कि स्कुले भोर भये शुरू होने लगी. जिसके चलते नयी मम्मीयोंको सवेरे पाँच बजे उठकर किचन मे खडा होना पडता है. फिर दोपहर के करीब एक बजे तक वो खडी रहती है. फिर शाम पाँच बजे खडी हो जाती है रात के ग्यारह बजे तक. कुल मिलाकर रोज 14 घंटे औरते खडी रहती है. 600 स्क्वेअर फीट के घर मे अमुमन एक भारतिय स्त्री आठ से नौ किलोमिटर तक चलती है. 14 घंटे खडे रहना और नौ किलोमिटर हररोज चलना, जिसमे एकभी दिन कि छुट्टी नहीं. अब सोचिये क्या होगा रील की हड्डी का? घुटनोंका..

  आईये नजर डाले हमारे किचन के कुकिंग टेबल पर. इस टेबल कि हाईट होती है, "तीस इंच." तीस इंच ही क्यूँ इसका जवाब किसी कढिया, किसी सिविल इंजिनीअर के पास नहीं है. "अर्गोनोमिकल साईंस", मतलब इंसानी शरीर का उसके फर्निचर के साथ 'डायमेंशनल' सम्बंध. इसकी पहल एक सायंटिस्ट 'हारमन मिलर' ने कि. उसने दस हजार लोगोंके शरीर के नाप लिये. फिर उसकी औसत निकालकर कुछ प्रमाण निश्चित किये. जैसे कि, कुर्सी की सीट जमीन से साढे सतरह इंच पर होनी चाहिये. हेंडल्स नौ इंच पर होने चाहिये, सीट अठरह इंच बाई अठरह इंच होनी चाहिये इ. अब उसने यह तय किया कि किचन टेबल की उँचाई तीस इंच की चाहिये. फिर हम भारतियोने उसका अंधानुकरण किया. हमारी माता बहनोंके हाईट का हमने जरा भी विचार नही किया. गडबडी यही पर हुयी.. इन सबका हम विस्तार से अध्ययन करेंगे.

  'हारमन मिलर'साहब ने जिन व्यक्तियोंका अध्ययन किया वो सभी युरोपिय वंश के थे. युरोपिय वंश की महिलायें औसतन साढे पाँच फीट उंची होती है. जबकी भारतीय स्त्रीयाँ औसतन पाँच फीट उंची होती है. यह आधे फीट का फरक हमने हमारी किचन टेबल मे परिवर्तित नहीं किया. युरोपिय किचन टेबल के अंदर ही 'कुकिंग रेंज' फिट होता है. इसके विपरीत हमारे यहाँ कुकिंग चुल्हे होते है. जिसकी उंचाई 6 इंची होती है. उसके उपर बर्तन रखे जाते है. हमारी माताओंको 'फ्रोजन शोल्डर' कि तकलीफ, पीठ दर्द कि तकलीफ कहाँ से मिलती है, जानिये. रोटियाँ बेलते वक्त उनके कंधें अ-नैसर्गिक तरीकेसे उपर की तरफ हवा मे रहते है. छोटे बडे काम करते वक्त वो आगे की तरफ झुककर काम करती है, जिसके कारण 'जोईंट्स पर्मनंटली डेमेज' हो सकते है.

  हमारे इंजीनियर्स, इंटिरियर डिझायनर्स से मेरी बिनती है, कि जिस महिला को जिंदगीभर जिस किचन मे खडा रहना है उसकी उंचाई का विचार करके टेबल कि हाईट रखे. हमने पाश्चात्य जीवन शैली अनुसार टेबल तो लिया लेकिन एक चीज हमने नही ली, वो है, हाईट एड्जस्टेबल स्टूल. दूसरा बडा फरक ये है, कि युरोपिय औरते किचन मे सिर्फ आधे घंटे तक ही होती है. और भारतीय औरतें 14 घंटे.. क्योंकि इंडियन खान-पान में जरूरी होता है प्रिपरेशन. जिसके लिये अनेक बर्तनोका प्रयोग होता है. और अनेक पदार्थो का भी. तो अब पीठ दर्द से बचने के लिये बीच बीच में हाईट एड्जस्टेबल स्टूल का प्रयोग करें. और अगर आपकी उंचाई कम है तो एक लकडी का छोटासा 8 इंच का 'स्टेण्ड' बना लिजीये. पीठ दर्द कम हो जायेगा. 
     
  पीठ दर्द का दूसरा कारण विस्तार से जानिये. मनुष्य प्रजाति एक 'स्तन-धारि' जीव है. सभी 'स्तन-धारि' जीव पिल्लोंको जन्म देते है. और उन्हे दूध पिलाते है. गर्भावस्था के दरमियान इंसान को छोड सभी प्रजातियोंकि मादायें चार पैर पर अपना वजन बेलंस करती है. लेकिन इंसान दो पैरोंपे चलने वाला जीव है. अब इंसान की मादा गर्भावस्था के दरमियान अपना और बच्चेका वजन कितना भी बढे, दो पैरों पर सम्भालती है. पेट के वजन को सहारा देते हैं कमर एवम पीठ के स्नायु. इसके साथ युवा अवस्था मे जिस ब्रेस्ट का वजन 100 ग्राम होता है वह लगभग डेढ किलो तक बढता है. ब्रेस्ट में किसी प्रकार के स्नायु नहीं होते. जिसके कारण पीठ के स्नायुओंपर अतिरिक्त खिचाव आ जाता है.

  बच्चा जब छोटा होता है तब माँ के आँचल मे दूध ज्यादा होता है, लेकिन जैसे जैसे बच्चा बडा होने लगता है दूध कम होने लगता है. बच्चे की भूख बढने लगती है और मुँह के मसल्स भी मजबूत होने लगते है. परिणाम स्वरूप बच्चा ताकत के साथ दूध पीने की कोशिश करता है, जिसमे पुन: एक बार पीठ के स्नायु खीचते है. डिलिवरी के बाद महिलाओंमे केल्शियम कि कमी होने लगती है. उनकी हड्डियाँ अंदर से हल्की होने लगती है. डिलिवरी के दरम्यान रील कि हड्डी के उपर जोर देने के कारण कई बार एल वन, एल टू, एल थ्री मणके या उनके बीच की गद्दी दबती है. जो उम्र ढलने लगतेही दर्द का रुप धारण कर लेती है.

  औरतोंके कमर का हिस्सा मर्दोंके कमर से ज्यादा बडा होता है, क्योंकि उन्हे माँ बनने का सौभाग्य प्राप्त होता है. डिलिवरी के बाद ज्यादातर महिलाओंमें अतिरिक्त चरबी सीना, बाजु, कमर, बटक्स, जंघाओंके उपर अटक जाती है. गडबडी ये है, कि उनके पैरोंके तलुओंकी साईज चौदह साल कि उम्र में बढना बंद हो जाती है. चाहे कितना भी वजन बढ जाय. जहाँ तक पुरुषोंका सवाल है, तो उनका वजन जैसे बढता है वैसे पैरोंका साईज भी बढता है. परिणामत: औरतोंके घुटनोंपर एवम पैरोंके तलुओंपर 'पोईंटेड फोर्स' पडता है, जिसके कारण उन्हे चलने मे दिक्कत होती है. उन्हे जल्दी थकावट आ जाती है. और घुटनोंका दर्द उनका साथी बन जाता है.

  तीसरा कारण है हमारी, संस्कृति. इण्डियन औरते, किचन को अपना राजपाट बना देती है, जिसमे एंट्री करने कि मर्दोको इजाजत नहीं होती. तो अक्सर एक सामान्य घर का सीन ये है, कि मर्द लिविंग रूम मे बैठते है और औरत सब के लिये चाय, पानी, खाना किचन से ला लाकर देती है. फिर सब झूठा सामान बारी बारी उठाकर अंदर भी लेकर जायेगी. अगर पती, लडका या ससूर ने मदद करना चाहा. तो जवाब मिलता है, 'तुम रहने दो, मैं सब सम्भाल लूँगी'. लडकोंको उनकी माताओने बचपन से सिखाया ही नही कि किचन मे छोटे छोटे कामोमे कैसे मदद की जाति है. फिर जब वो माता चालीस के उम्र की बन जाती है तब अचानक अठरह बीस साल के लडके से अपेक्षा करती है कि वो मेरी मदद करे. संस्कारोंकी वजह से वो भी अपने पापा के जैसा बिना किसी की परवाह किये बिना हॉल मे टी.वी. देखता रहता है.

  अब हमने अपने लाइफ स्टाईल एवम गलतीयोंको जाना. कोशिश यही रहें कि अपने आप को दर्द से बचायं नहीं तो हर रात आपका एक साथी सिरहाने कि तरफ रहेगा, 'बाम कि डिब्बी' ! 
 please visit  www.ideazunlimited.net     

Educational System in India is a Mess

Educational System in India is a Mess One day a child ask its parents ,' If I want to earn huge money in life which subject sho...