मन की शांती कैसे पाये? आलेख 2


 मन की शांती कैसे पाये? .. 2

 

Click here to read in English



एक सुबह में मैंने पाया कि वाट्सप ग्रुप के कुछ सदस्य रात में 1 बजे तक 'मन की शांति' के बारे में चर्चा कर रहे थे। मैं "मन की शांति कैसे प्राप्त करें" इसके के बारे में कुछ बुनियादी बातों पर ध्यान देना चाहता हूं।

प्रकृति ने सभी प्रजातियों को दो (तीन) श्रेणियों में विभाजित कर दिया है। सबसे पहले ' diurnal ' यानी वो प्रजातियां हैं जो दिन की रोशनी में काम करती हैं और रात में आराम करती हैं। जैसे स्तनधारियों और, दूसरा ' nocturnal ' है जो रात में काम करता है और दिन के उजाले में आराम करता है। जैसे सर्पिन प्रजातियां (तीसरी श्रेणी है, जो पिछले 50 वर्षों के भीतर उभर रही है जिसे ' crepuscular ' कहा जाता है जो दिन की रोशनी और 'रात की रोशनी' पर भी काम करता है।

मानव मूल रूप से एक diurnal है। हजारो वर्ष पहले, जब मनुष्यों ने कृषि संस्कृति का आविष्कार किया, तब वह' सुबह जल्दी उठते हैं, तरोताजा होने के बाद कुछ खाते हैं, दोपहर तक खेत में कड़ी मेहनत करना शुरू करते हैं, दोपहर का भोजन लेते हैं, आराम करते हैं, फिर से काम में शामिल होते हैं , शाम तक। शाम को मनुष्य 6 या 7 बजे घर लौटता था। परिवार के साथ रात का खाना खाने के बाद बिस्तर पर 8 बजे जाता था। यह दिनचर्या हजारों सालों से वहां थी। मनुष्य प्रकृति कानून के अनुसार जीवित थे। उस समय शारीरिक, मानसिक और आध्यात्मिक स्वास्थ्य सही था।

लेकिन चार लोगों ने कुल मानवता को प्रभावित किया। पहला 'टेस्ला' था जिसने बिजली का आविष्कार किया था। सर हम्फ्री डेवी द्वारा तत्पश्चात इलेक्ट्रिक बल्ब का आविष्कार किया गया था (मुझे आपको बताना है, थॉमस एडिसन द्वारा इलेक्ट्रिक बल्ब का आविष्कार नहीं किया गया था, बल्ब का आविष्कार एडिसन के जन्म से 45 साल पहले किया गया था। कृपया ज्ञान अपडेट करें।)

अब मनुष्य 9 बजे तक जागने लगा। बल्ब की वजह से मानव जीवन से हमारी 1 घण्टे की नींद ले ली। दूसरा था जॉन लॉगी बेयरड, जिसने टेलीविजन का आविष्कार किया । अब लोग 10 बजे तक जागने लगे. (यदि आप ब्लेक एण्ड व्हाईट17 इंच टीवी और उसके कार्यक्रम को याद कर सकते हैं।) बाद मे  केबल टीवी, रंगीन टीवी सेट्स की क्रांति हावी हो गयी थी।

और फिर नेट और स्मार्ट फोन! कहानी यहाँ समाप्त होती है!

अब इंसान 'crepuscular' में बदल गया जो दिन की रोशनी और 'रात की रोशनी' पर भी काम करता है। प्रकृति द्वारा जिसकी अनुमति नहीं है।

अब मन, नींद और पाचन तंत्र की शांति के संबंध को समझने की कोशिश करें।
जब हम रात का खाना लेते हैं, तो मनुष्य 10 बजे के आसपास बिस्तर पर जाय। अपने शरीर को आराम करने की अनुमति दें अपने पाचन तंत्र को काम करने दें, अपने दिमाग को आराम करने दें। गहरी नींद में जाएं, दिमाग को ट्रान्स या थेटा स्तर प्राप्त करने दें। ताजा हो जाओ, सुबह जल्दी उठो और सही शारीरिक और मानसिक स्वास्थ्य प्राप्त करें।

इस के बजाय 1 बजे तक लोग स्मार्ट फोन के साथ खेलते हैं। वे भोजन को पचाने की अनुमति नहीं देते हैं। यह एसिडीटी और गैस की परेशानी को आकर्षित करता है। इसके मन में विपरीत अनुपात है और नतीजा यह है कि: मन की कोई शांति नहीं है। रिश्ते में तनाव, लंबे समय तक यह मधुमेह, उच्च रक्तचाप और ना जाने क्या क्या..।

इस आलेख का मोरल यह है, कि 10 बजे मोबाइल का स्विच ओफ करो बिसतर पर जाओ। सुबह 8 बजे मोबाइल चालू करें।

जैसे ही आप जागते हैं, 1 गिलास पानी लें। वाशरूम में जाओ, हर बुरा विचार धो लो। भगवान के लिए धन्यवाद दे दो कि आप जीवित हैं। भूल जाईये कि लोगों ने कल क्या कहा ... आज के वर्तमान में रहो। जीवन का आनंद लें।

मैं गारंटी देता हूं कि यह निश्चित रूप से दिमाग की शांति देगा।

अगर अभी भी संदेह है। कृपया चर्चा करें। डॉ जोशी
Post a Comment

How to convert TV into SMART TV- Turorial

How to convert TV into SMART TV-Turorial I am using this product Anycast for more than 4 months time. This is working absolutely fi...