Pages

how to raise funds for NGO, fund raising agents, fund raising agencies

how to raise funds for NGO, fund raising agents, fund raising agencies 
Perfect guidance to create employment through NGO

Note: (This is only an idea, please use it intelligently by modifications)

your ngo name---------------------- यह  समाज   सेवी  संस्था  आपका   स्वागत  करती है. समाज सेवा से प्रेरित कुछ नौजवानोका यह उपक्रम ---------- मंदिर का जीर्णोद्धार कर रहा है. इसमें भगवान -----------आपको भी आर्थिक रुप से सक्षम बनाने वाले है. कृपया सम्पूर्ण ध्यान से पढे....
आपको सिर्फ 201/= या 2001/= रुपये उस ---------- मंदिर के जीर्णोद्धार लिये दान देने है. . मंदिर के गर्भगृह कि रचना हमने अपने खर्चे से कि है. --------- यह पवित्र स्थान ---------पर है.
आप स्वयम पधार के इस अद्भुत स्वयम्भू --------- के दर्शन कीजिये. आपकी हर प्रकार कि पैसे की समस्या को-----------दूर करेंगे.
इस दान के महायज्ञ मे आपके जैसे पांच हजार लोग जुड जायेंगे तो ---------कि कृपा से एक विशाल पूंजी एकत्रित हो जायेगी. जिसे मंदीर निर्माण के साथ गरीब बच्चोंकी पढाई, गौशाला, अन्नदान, वस्त्र दान आदि कार्योंमे लगाया जायेगा.
इस काम के साथ हम रोजगार कि निर्मिती करना चाहते है. जो नौजवान या महिलायें इस पवित्र काम मे कुबेर भगवान कि सेवा मे जुट जायेंगे उन्हे हर दस हजार की धन राशी के पीछे एक हजार रुपये पेट्रोल का खर्च दिया जायेगा. मतलब एक लाख के कलेक्शन के लिये उन्हे ट्रेवलिग अलाऊंस दस हजार रुपये मिलेंगे. लेकिन मायबाप जनता से हमारी बिनती है कि यह किसी प्रकार का MLM नही है, या इसे  MLM  बनाने का प्रयास ना करें.  हां, पेट्रोल अलाउस कि राशी अपने भाई बहनोंके साथ मिलकर बांट सकते है..
जो भक्त, ------ के लिये पांच लाख का दान जुटायेगा उसे पचास हजार के धन राशी के साथ 32 इंच का कलर टिवी भी गिफ्ट मे मिलेगा. इससे आगे जो महाभक्त दस लाख का दान जुटायेगा उसे एक लाख कि धनराशी के साथ -----भगवान कि तरफ से एक बजाज बाईक भी मिलेगी.
और जो महाभक्त ------ कि सेवा मे एक करोड जुटा पायेगा उसपर ---- भगवान कि विशेष कृपा होगी और उसे दस लाख के धनराशी के साथ आलीशान चमचमाती फोर विलर भी मिलेगी.
-------- हमे जनता की सेवा का मौका दे रहे है इसलिये हर किसी के घर में खुशिया आने वाली है. कैसे? जैसे ही अपने साथ हजार, दस हजार लोग जुड जाते हैं तो यह एक ताकद “परचेसिंग” पावर मे तब्दिल हो जाती है. जब हम शक्कर खरिदने जायेंगे तो बीस टन शक्कर हम सीधे शुगर मिल से उठायेंगे. और काफी सस्ते मे घर घर मे शक्कर पहुचेगी. अगर बढिया क्वालिटी के चावल खरिदेंगे तो सीधे किसान से खरिदेंगे, तो किसान को भी तुरंत पैसा मिल जायेगा और आपके घर में काफी सस्ता चावल मिलेगा.
अपने -----मंदीर के पास ------मैया का विशाल आंचल फैला हुआ है. इस मैदान मे हम सीधे किसान भाईयोंको आमंत्रित करेंगे और किसान भाई अपनी अपनी साग- भाजी डायरेक्ट जनता तक पहुंचा पायेंगे. जनता को सीधा फायदा..
सोचिये, बच्चोंकी नोट बुक, चप्पले, कपडे हम किसी से खरिदने जायेंगे तो सीधे ट्रकलोड की बात करेंगे तो कितने सस्ते मे माल मिलेगा? और आपका कितना फायदा होगा...
फिर हर एक घर के लिये महिने का करीयाणा सामान हम आपके लिये खरिदेंगे, पूरे साल भर के लिये
लेकिन इस योजना के अंतर्गत आपको बीस हजार रुपये कम से कम रोकने पडेंगे. इसलिये ग्यारा महिलाओंका आपको गृप बनाना होगा. उनका यह गट महिला बचत गट होगा. इनका बेंक मे खाता होगा. बीस हजार की राशी आपने हमे नही देनी है. आपके बचत गट मे ही रखनी है. ग्यारा महिलाओंकी बीस हजार के हिसाब से दो लाख बीस हजार कि राशी एकत्रित हो जायेगी. फिर हर महिने जो माल चाहिये वह एकत्रित रुप से हमे ओर्डर दिजिये वह बल्क मे आपके पास पहुंच जायेगा. उतना ही पेमेंट आप करोगे, जितने का सामान आप सम्पूर्ण डिस्काऊंट के साथ खरिदोगे..
इसके अलावा ----------जी की कृपासे व्यापारी भाई बहनोंके व्यापार मे भी गती आयेगी. क्योंकी हमारे पास ग्राहक शक्ति बढ जायेगी तो सेवा देने वाले लोगोंको रोजगारके अवसर उपलब्धहो जायेंगे. 
इस योजना के तहत हर एक दानी, जो मंदीर के लिये दान देंगे वो और पांच सौ रुपिये कि मामुली रकम ऑफिस एड्मिनिस्ट्रेशन के लिये देकर हमारे साथ जुड जायेंगे, जिसमे उन्हे एक डेबिट कार्ड दिया जायेगा. उस डेबिट कार्ड मे आपको कम से कम दो हजार रुपिया देकर उसे चार्ज करना पडेगा.फिर जो व्यापारी हमसे जुडकर सेवा करना चाहेंगे उनके पास स्वाईप मशीन होंगे. जब भी कोई सेवा किसीने ली तो उतना भुगतान डेबिट कार्डसे कट होगा.हर कार्ड धारक को कम से कम दस से बीस परसेंट का फायदा होगा.
एक उदाहरण से हम इसे समझेंगे.. नाईट गाउन की प्राईस तीन सौ रुपिये है. एक महिला को दो नाईट गाऊन लगते है. ऐसी एक हजार महिलाओंको दो हजार गाउन्स चाहिये, मतलब ये हमारे पास दो हजार गाउन्स का ओर्डर हुआ. अब यही गाउन्स अगर एक सौ रुपिये मे मिलेंगे तो महिलाये इसे जरूर खरिदना चाहेंगे? दो हजार गाउन्स के लिये लगनेवाला कपडा हम डायरेक्ट मिल से खरिदेंगे.
तीस रुपिये मिटर वाला अच्छा क्वालिटी का कपडा लायेंगे तो भी साठ रुपिये का कपडा लगा. फिर एक मास्टर से कटिंग मशीन उपर अलग अलग पेटर्न कटिंग करके लेंगे. उसका पांच रुपिया गिनती कर लिजिये. और सिलाई देंगे बीस रुपिये. कुल मिलाकर एक गाउन के पीछे खर्चा हुआ 85 रुपिये, उसपर और 15 रुपिये का खर्चा जोड दिजिये फिर भी एक गाऊन हम सौ रुपिये मे बेच सकते है.
अब जिन महिला सदस्योंके पास सिलाई मशीन पहले से है उन्हे ये कटिंग दिये जायेंगे. गाउन मे दो साईड साईड सिलाई होती है. फिर एक गला, एक बॉटम की सिलाई और दो स्लीव. इतने सिलाई का बीस रुपिया मिलेगा.. अब कोई भी महिला, बच्चोंको सम्भालते हुये सास ससूर कि सेवा करते हुये भी कम से कम दस गाउन्स कि सिलाई एक दिन मे कर सकती है, और दो सौ रुपिये एक दिन की मेहनत से कमा सकती है. तो डबल फायदा हुआ. क्योंकि जब वो अपने यहा गाऊन खरिदेगी तो उसे यही गाउन सौ रुपये मे मिलेगा. और उसने हररोज दो सौ रुपये भी कमाये..
इसी प्रकार से जिन भक्तों पास अपनी जगह (ओपन प्लोट) है उन्हे हम आधे से आधे दाम मे घर बांधकर देंगे. स्वतंत्र टोईलेट भी बहोत सस्ते मे बांधकर देंगे.

यह आयडिया पहले से जिनके पास NGO है वो भी अलग से करना चाहते है तो भी कर सकते है.जिसके द्वारा पोलिटिकल पावर का भी निर्माण होगा. अधिक मार्गदर्शन के लिये हमे जरूर lighthousestudioz@gmail.com

No comments:

क्या भूत प्रेत आत्मा की बाधा रेकी या हिप्नोथेरपी से सम्पूर्ण ठीक होती है?

  क्या भूत प्रेत आत्मा की बाधा रेकी या हिप्नोथेरपी से सम्पूर्ण ठीक होती है?   भूत प्रेत आत्मा या यू कहे उसका 'वहम',...