Pages

Ratno ka shastra-रत्न का शास्त्र

रत्न
ग्रह
रंग
मंत्र
माणिक
सुर्य
लाल (ब्लड रेड)
ॐ र्हा र्हि र्हौ स: सुर्याय नम:
मुंगा
मंगल
लाल (लाइट रेड)
ॐ क्रॉ क्रीं क्रों स:  भौमाय नम:
पन्ना
बुध
हरा
ॐ ब्रां ब्रिं ब्रों स: बुधाय नम:
हिरा
शुक्र
श्वेत
ॐ द्रों द्रिं द्रों स: शुक्राय नम:
मोती
चंद्र
श्वेत
ॐ श्रॉ श्रिं श्रौ स: चंद्रमसे नम:
पोख्रराज
गुरु
पिला
ॐ ग्रॉं ग्रीं ग्रौं स: गुरुवे नम:
लहसुनिया
केतु
काला
ॐ स्त्रॉं स्त्रिं स्त्रों स: केतुवे नम:
निलम
शनी
 बैंगनी काला
ॐ प्रॉं प्रिं प्रों स: शनये नम:
गोमेद
राहु
काला
ॐ भ्रॉं भ्रिं भ्रों स: राहुवे नम:











राशी अनुसार रत्नोंका चयन

राशी
रंग
रत्न

मेष
लाल
परवाळू (त्रिकोण प्रवाळ)

व्रूषभ
लाइट ब्लू
हिरा / षटकोण पन्ना

मिथून
पिला
पन्ना /मोती

कर्क
हरा
मोती /निलम

सिंह
नारंगी
माणिक

कन्या
फीका काला
पन्ना

तुला
किरमीजी
हिरा /सफेद पोख्रराज

व्रुश्चिक
तेजदार
लाल परवाळू /मुंगा

धनु
पिला
पिला पोख्रराज

मकर
 ब्लू
निलम

कुम्भ
आसमानी
निलम / लहसुनिया

मीन
तेजदार
सफेद पोख्रराज /गोमेद






















अंग्रेजी महिना अनुसार रत्नोंका चयन






मुंगा
जनवरी


करैला
फरवरी


बैरूज
मार्च


हिरा
एप्रिल


पन्ना
मई


सुलेमान
जून


माणिक
जुलाई


गोमेद
अगस्त


निलम
सितम्बर


सुनैला
अक्तुबर


रुबी स्टार
नवम्बर


गोमेद
डिसेम्बर











अंग्रेजी जन्मातिथी अनुसार रत्नोंका चयन





राशी
रंग


मेष
मुंगा
15 एप्रिल 15 मई

व्रूषभ
हिरा
15 मई 15 जून

मिथून
पन्ना
15 जून 15 जुलाई

कर्क
मोती
15 जुलाई 15 अगस्त 

सिंह
माणिक
                                  15 अगस्त 15 सितम्बर                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                        

कन्या
पन्ना
15 सितम्बर 15 अक्तुबर

तुला
हिरा
15 अक्तुबर 15 नवम्बर

व्रुश्चिक
मुंगा
15 नवम्बर 15 डिसेम्बर

धनु
पिला पोख्रराज
15 डिसेम्बर 15 जनवरी

मकर
निलम
15 जनवरी 15 फरवरी

कुम्भ
गोमेद
15 फरवरी 15 मार्च

मीन
लहसुनिया
15 मार्च 15 एप्रिल



















परफेक्ट जन्मातिथी अनुसार रत्नोंका चयन


माणिक
1         10        19      28


मोती
2         11        20      29    


पिला पोख्रराज
3         12        21      30


गोमेद
4         13        22      31  


पन्ना
5         14        23 


हिरा
6         15        24


लहसुनिया
7         16        25  


निलम
8         17        26 


मुंगा
9         18        27     




















रत्न
ग्रह
शत्रु ग्रह
मित्र ग्रह
सम ग्रह
माणिक
सुर्य
शुक्र/ शनी
चंद्र / मंगल /गुरु
बुध
मोती
चंद्र
राहु
सुर्य /बुध
शुक्र / मंगल /गुरु
मुंगा
मंगल
बुध / शुक्र
चंद्र / सुर्य / गुरु
**
पन्ना
बुध
चंद्र
सुर्य /शुक्र /केतु
 शनी /गुरु
पोख्रराज
गुरु
बुध / शुक्र
शनी
चंद्र / सुर्य / मंगल
हिरा
शुक्र
चंद्र / सुर्य
बुध /शनी
शनी /गुरु /मंगल
निलम
शनी
चंद्र / सुर्य / मंगल
बुध / शुक्र
**
गोमेद
राहु
चंद्र / सुर्य / मंगल /गुरु
बुध /शनी
**
लहसुनिया
केतु
चंद्र / सुर्य / मंगल
शुक्र/ शनी /गुरु
**























   मूलांक या जन्मतिथी
अनुसार रत्नोंका चयन
उदा; 23= 2+3=5 मुलांक

























रत्न
तिथी
मूलांक
तिथी
मूलांक
तिथी
मूलांक
तिथी
मूलांक

माणिक
1
1
*

*




मोती
2
2
11
2
20
2
29
2

पोख्रराज
3
3
12
3
21
3
30
3

माणिक /गोमेद
4
4
13
4
22
4
31
4

पन्ना
5
5
14
5
23
5



हिरा
6
6
15
6
24
6



मोती /लहसुनिया
7
7
16
7
25
7



निलम
8
8
17
8
26
8



मुंगा
9
9
18
9
27
9



माणिक
10
1
19
1
28
1










सूर्य का बल शनी नष्ट करता है
सूर्य से शनि प्रभावी है



शनीका बल मंगल नष्ट करता है
शनी से मंगल प्रभावी है



मंगल का बल बुध नष्ट करता है
मंगल से बुध प्रभावी है



गुरु का बल शुक्र नष्ट करता है
गुरु से शुक्र प्रभावी है



शुक्र का बल चंद्र नष्ट करता है
शुक्र से चंद्र प्रभावी है



बुध का बल गुरु नष्ट करता है
बुध से गुरु प्रभावी है



चंद्र का बल मंगल नष्ट करता है
चंद्र से मंगल प्रभावी है














1









सूर्य का बल शनी नष्ट करता है
सूर्य से शनि प्रभावी है



शनीका बल मंगल नष्ट करता है
शनी से मंगल प्रभावी है



मंगल का बल बुध नष्ट करता है
मंगल से बुध प्रभावी है



गुरु का बल शुक्र नष्ट करता है
गुरु से शुक्र प्रभावी है



शुक्र का बल चंद्र नष्ट करता है
शुक्र से चंद्र प्रभावी है



बुध का बल गुरु नष्ट करता है
बुध से गुरु प्रभावी है



चंद्र का बल मंगल नष्ट करता है
चंद्र से मंगल प्रभावी है












    
















राहू का दोष बुध से कम होता है




मंगल, बुध, राहू, शनी का दोष गुरु से कम होता है










v

No comments:

क्या भूत प्रेत आत्मा की बाधा रेकी या हिप्नोथेरपी से सम्पूर्ण ठीक होती है?

  क्या भूत प्रेत आत्मा की बाधा रेकी या हिप्नोथेरपी से सम्पूर्ण ठीक होती है?   भूत प्रेत आत्मा या यू कहे उसका 'वहम',...