Pages

गिटार की सरगम





नमस्कार दोस्तो,
(आजकल 'मित्रों' नहीं बोल सकते, लोग डर जाते है) मै, एक 'मानस शास्त्र' विषय तज्ज्ञ हूँ, जिसने म्युजिक सीखने के सरल तरीकोंको ढूँढा है.
जिन्हे 'की बोर्ड, पियानो, गिटार' सीखना है, ऐसे सभी लोग मेरे दिये गये तरिकोंको अपनाये. जी हाँ एक घण्टे मे आप 'कीबोर्ड, पियानो, गिटार' पे गाना बजाना सीख जायेंगे.
हम पाश्चिमात्य स्टाईल ना सीखते हुये, इण्डियन स्टाईल से 'सरगम' सीखेंगे. जो इस विषय का सबसे तेज तरिका है.
प्रथमत: जान लिजीए 'सरगम' क्या हिती है? जैसे कोम्प्युटर कि अपनी 'लेग्वेज' होती है वैसे हर साज (म्युजिक इंस्ट्रुमेंट) कि अपनी 'लेंग्वेज' होती है. जैसे कि,'छुकर मेरे मनको किया तूने क्या इशारा..' ये हुये गाने के बोल.. तो कोई इसे ऐसा गुनगुनायेगा,...
ना ना नाना नानाना नाना नाना ना ना नाना...
"गग रेसा नि*नि*रे,प*ध*नि*नि*सारेगसा"
तो 'सा रे ग म प ध नि सा' इन सुरोंको प्रमाण मानकर जब आप कोई भी साज बजाते है तो गाने कि धुन पर आपके मन मे बोल आकार लेने लगते है. 'छुकर मेरे मनको किया तूने क्या इशारा..
किसी भी गीत के दो हिस्से होते है, पहला होता है, मुखडा यानि 'हेड' जो कि दो लाईन का होता है. और दूसरा होता है अंतरा यानि के 'बॉडी'. किसी भी गीत में दो या तीन स्टंझा होते है. तो टेंशन मत लिजिये. कोई भी साज एक ही स्टांझा बजाता है. उसे बाद मे हम रिपिट करते रहते है.
उदा. "पापा कहते हैं बड़ा नाम करेगा" इस गाने कि सरगम को आपने देखा तो "धध पम प सारे म निधप" इतना ही तयार किजीए और उसे दो बार बजाईये तो, अपने आप "पापा कहते हैं बड़ा नाम करेगा बेटा हमारा ऐसा काम करेगा" बजेगा.

सासासा-सारेसा- सासासा-सारेसा- मम गरे रे गरे ग म इतना दो बार बजाईये तो दो लाईने तैयार.
"बैठे हैं मिल के, सब यार अपने सबके दिलों में, अरमां ये है,
वो ज़िन्दगी में, कल क्या बनेगा  हर इक नजर का, सपना ये है.. "

अब जानिये, कि गीत बजाने से पहले आपको क्या करना है. गीत को प्रथमत: कम से कम बीस या तीस बार लगातार सुनिये. जब तक ते गीत की धुन आपके दिल मे ना उतर जाय.
दूसरा, अपने की बोर्ड के हर एक की पर सा, रे, , ... लिखना है. सफेद पट्टी पर लिखना आसान है. लेकिन ब्लेक पट्टी पर छोटे छोटे कगज के टुकडे चिपकाईये. उसके उपर सीडी पर लिखनेवाला पोईंट फाइ के मार्कर पेनसे सा,रे,, लिखिये.
इनके सुर कैसे होते है ध्यान दिजिये.. (नीचे दिये गये चित्र को देखिये) किसी भी की बोर्ड के करीब करीब मध्य मे जो दो काली पट्टी होती है वहा से ..."सा" शुरू किजीए उसकी तुरंत बाजू मे राईट साईड मे सफेद पट्टी है वो है "रे" यहाँ रे के निचे एक लाईन है इसे ध्यान मे लिजीए. उसके बाद राईट साईड मे ही काली पट्टी है वो है "रे" उसके बाद राईट साईड मे सफेद पट्टी "" उसके बाद की सफेद पट्टी "". फिर काली पट्टी "" फिर सफेद पट्टी "मे" फिर काली पट्टी "" फिर सफेद पट्टी "" फिर काली पट्टी "" फिर सफेद दो पट्टी या "नि" "नि" फिर काली "सां" उसके बाद इसी क्रम से की बोर्ड के अंत तक सा रे ग म रिपीट होंगे. लेकिन इस बार उनके उपर अनुस्वार (पोइंट) है,तो ये बन जाते है, सां, रें, रें, गं, गं, मं, में, पं, धं, धं, निं, निं
अब हमने जहासे सा रे ग म शुरु किया था उसके लेफ्ट साईड मे आयेंगे लेफ्ट को सफेद पट्टी "नि" के निचे "." आयेगा.
टाईप करते वक्त हमें उस प्रकार का फ़ोण्ट नही मिला तो हम थोडी सी आजादी लेते हुये उसे ऐसे लिखेंगे "*नि"
जहाँ जहाँ पर * चिन्ह आयेगा तो समझ लिजीये उस स्वर के निचे पॉईंट है.
फिर उसके लेफ्ट मे सफेद पट्टी है, वो"*नि" है. उसके लेफ्ट मे काली "*ध" फिर लेफ्ट मे सफेद "*" फिर काली पट्टी "*प" फिर लेफ्ट मे सफेड "*मे" फिर काली "*म" फिर लेफ़्ट मे सफेद "*ग" "*ग" फिर काली "*रे"सफेद "*रे" अंतिमत: काली पट्टी "*सा" उसके पीछे के सुर हिंदी गाने मे नही लगते.
 
अब प्रेक्टिस शुरू किजिये. डायरेक्ट सा, रे, , , , , नि, सा और उल्टा सा, नि, , ,,, रे, सा बजाईये ऐसा पंधरा मिनिट किजिये. फिर सरगम को सामने रखकर बजाना शुरू किजिए. शुरुआती दौर मे ये गाने को 'गद्य' मे पढने जैसा बेसुरा होगा. लेकिन जल्द हि कौनसी की कितनी ज्यादा या कम बजायेंगे इसका ग्यान अपने आप आ जाता है.
हमने नये एवम पुराने गानोंकी सरगम दी हुयी है. अगर किसी भी प्रकार की सहायता चाहिये तो हमे सम्पर्क किजिये. ideazunlimited3@gmail.com      
Wish you all the Best... गिटार, पियानो, कीबोर्ड और बहोत सारे इंस्ट्रुमेण्ट के लिये सरगम वही होती है.

गिटार की सरगम



अब जानेंगे गिटार की सरगम के बारे में, नीचे कि आकृती पारम्पारिक सरगम की है, जो हमने उल्टी पायी. इसलिये नये सीखनेवालोंको दिमाग मे उल्टा बनाकर सरगम को याद रखना पडता है.

पता नहीं किस बंदे ने इसे उल्टा बनाया और लाखो लोग इसे अंधे के जैसे फॉलो कर रहे है.जबकी पतली तार वास्तव मे नीचे होती है, और मोटी तार उपर होती है. जिसे हमने सीधा एवम सरल बनाया है.

अब हमारी संशोधित आकृति " गीटार सरगम पनु पेटर्न" से प्रेक्टिस कीजिये आप तुरंत सीख जायेंगे. "पनु पेटर्न" का प्रिंट आउट निकालकर सामने रखिये और सरगम कि प्रेक्टिस किजीए. इसमे आपने देखा तो "रे"और "प" चौकोन के बाहर दिखाये है. इसका मतलब सिर्फ तार बजानी है, कहीं पर भी उंगली से किसी तार को छुना नही है. राईट हाथ से तार छेडिये, और लेफ्ट उंगलियोंसे सा रे ग म कि जगह ढूँढ कर दबाईये. जितने सुर हमने दिये है, उतनेही काम मे आते है. शुरुआत मे नये सीखनेवालोंकी उंगलियाँ कट सकती है. लेकिन प्रेक्टिस जारी रखिये. नयी स्किन आती जायेगी. दर्द भी कम होगा.

अगर आपने गिटार नही खरीदी है, और जिनकी उंगलिया कटने कि सम्भावना है तो नये सीखनेवालोंको "प्लास्टिक की तार" वाला गिटार लेने कि हम सलाह देते है,. या कही किसी के पास गिटार है, या किसी म्युजिक स्कूल मे दो दिन जाकर, बजाकर देखिये.

हमने लोगोंकी उंगलियाँ कट होते देखा भी है, और खास कर इण्डिया मे, जहाँ पर कुछ म्युजिक स्कूल्स मे हायजिन का खयाल नही रखा जाता, लोगोको एड्स भी गिटारके तारों के थ्रू होता है, यह भी देखा है.जहाँ तक हो सके अपना खुद का इंस्ट्रुमेण्ट खरिदे.  

हर रोज शुरुआत मे कम से कम एक घण्टा रियाज (प्रेक्टिस) कीजिये. हमने नये एवम पुराने गानोंकी सरगम दी हुयी है. अगर किसी भी प्रकार की सहायता चाहिये तो हमे सम्पर्क किजिये. ideazunlimited3@gmail.com      
Wish you all the Best...

गिटार, पियानो, कीबोर्ड और बहोत सारे इंस्ट्रुमेण्ट के लिये सरगम वही होती है.







No comments:

क्या भूत प्रेत आत्मा की बाधा रेकी या हिप्नोथेरपी से सम्पूर्ण ठीक होती है?

  क्या भूत प्रेत आत्मा की बाधा रेकी या हिप्नोथेरपी से सम्पूर्ण ठीक होती है?   भूत प्रेत आत्मा या यू कहे उसका 'वहम',...