Pages

CORONAvirus attack by aliens, here are the details कोरोना वायरस, एक 'एलियन' एटेक

CORONAvirus attack by aliens, here are the details

 कोरोना वायरस, एक  'एलियन'  एटेक

CORONAvirus COVID-19

 

To Read in English Please click here

 कोरोना वायरस, एक  'एलियन'  एटेक है| 

 

मै एक 'प्राचीन  अंतरिक्ष परग्रही संशोधंक' हूँ| दुनिया में सबसे प्रथम कुछ थ्योरीज मै रखना चाहता हूँ|

 

'कोरोना' वायरस इस धरती पर एक एलियन एटेक है |

 

कोरोना की वजह से हमें इस प्रश्न का भी उत्तर मिलता है, की इस पृथ्वी पर जीव कहाँ से आये? 

 

मनुष्य परग्रही जिवोंके बारे में सोचता है तो अपनी ही कल्पना का विस्तार करता है | और सोचता है की परग्रही भी मनुष्य के जैसे दो पैर और एक सर और दो हाथ वाले होंगे | ज्यादा से ज्यादा उनमे पृथ्वी पर मौजूद जीवोंके कोई अवयव जुड़े होंगे| लेकिन ऐसा हो यह जरूरी नही| 

 

मैंने पिछले तीस सालो में, हर एक धर्म ग्रन्थ का अध्ययन किया जिसमे एक चीज बहुत समान है, वो है, इस सृष्टी का विनाश होता है| और फिरसे इसकी रचना होती है |विनाश कैसे होता है इसके बारे में वर्णन भी करीब एक समान है |

 

प्राचीन समय में परग्रहीओंका आना जाना भी था| जिन्हें भगवान का स्वरुप माना गया था | हमारी सभ्यता परग्रहिओन्की एक प्रयोग शाला है|

 

हमेशा यह परग्रही जब ट्रेवल करते है, तो सूक्ष्म देह धारण करके ट्रेवल करते है | मैंने अनेक सभ्यताओंका सूक्ष्म अभ्यास किया| तो हर एक सभ्यता की लोक कथाओंमे ऐसी कथाएँ भरी पड़ी है, जिसमे कुछ विशेष प्रकार के सिद्ध हस्त पुरुष, एक जगह 'अंतर्धान' (गायब ) हो जाते थे और दूसरी जगह 'प्रकट' हो जाते थे| जब वह गायब होते थे तो उनके शरीर सूक्ष्म ऊर्जा के कणों में परिवर्तित हो जाते थे| लेकिन वह ऊर्जा बिखरती नहीं थी | एक ब्रम्ह तत्व (गॉड पार्टिकल एनर्जी) से जुड़ी रहती थी | जब वह फिरसे एकत्रित हो जाती थी तो वह पुरुष फिरसे दिखाई देता था | उस प्रक्रिया में एनर्जी के सूक्ष्म कणों का संचालन कौन करता होगा? वह वापस कैसे जुड़ते होंगे? यह सब 'ब्रम्ह तत्व' के कारण होता था| 

 

कुछ कथाओं में यह अदृश्य ऊर्जा दूसरोंकी जान भी लेती थी| 

 

इन एलियंस ने चीन के वुहान Wuhan शहर को ही क्यों चुना? 

 

१. इसकी लोकसंख्या,जिसके द्वारा प्रचंड गन्दगी (बायो वेस्ट) निर्माण होती है| 

 

२. इस आबादी का मॉस का सेवन, जिसके कारण बड़े कत्तल खाने एवं उसमें प्राणियोंके मृत शरीर  

 

३. दुनिया के किसी भी शहर से अति प्रचंड तेजी से हुआ भौतिक विकास| जिससे 'कम्प्यूटर ' और अन्य साधन उपलब्ध है, जिनमे वायरस ने चाहा तो मोडीफाय होकर तुरंत विश्वभर में फ़ैल सकते हैं |

 

४. इससे पहले दो बार इसी प्रांत में एलियंस ने टेस्टिंग किया भी था| जिसे हमने नाम दिया था, 'बर्ड फ्लू' और 'स्वाइन फ्लू'| 

 

५. उससे पहले एड्स, उससे पहले मलेरिया के नाम से भी वो जाने गए|

 

६. उससे भी पहले एलियंस ने 'जिवाणू का एटेक किया था| जिससे इसी प्रांत से 'दुनिया में प्रथमत:' प्लेग की शुरुआत हुई थी| 

 

७. चायना के इसी प्रांत के आजू बाजू में आज भी लोग कीड़े मकोड़े मजे से पकाकर खाते हैं| जिन कीड़े मकोड़ोको  देखकर ही विश्व के अन्य प्रांत के लोगोंको उलटी आ जाएगी|  

 

८. इन सब प्रान्तिक, भौगोलिक और तांत्रिक चीजोंका परिपाक है यह 'कोरोना' वायरस|

 

 

कोरोना वायरस नामक एलियन की टोली ने अपने आप को मोडिफाय किया है| जो किसी भी मौजूद मीडिया का उपयोग करके फ़ैल सकता है | फिर वो स्पर्श, हवा, पानी या कुछ भी हो| देखना दिलचस्प होगा की क्या यह कम्प्यूटर और नेट पर हमला करके बाहर और अन्दर दोनों जगह संचार करेगा की केवल पञ्च महाभूतोंसे बने हुए शरीरो पर ही यह हमला करेगा? 

 


अब हम अपने दिमाग को दौड़ाएंगे | 

 

१. ये वायरसेस आखिर आते कहाँ से है? तो साइंस इसका जवाब देता है, की वायरसेस के पुंज ब्रम्हांड में घुमते रहते हैं| जो पृथ्वी के संपर्क में आते ही अन्य जीवों के शरीर में घर बना लेते है | किसी मौजूद जीव के अन्दर यह या कोई और वायरस रहता है, यह कहना गलत होगा | यह एलियंस फैलाव के लिए तात्कालिक किसी जीवको चुनते है| ताकि उस जीव के DNA में बदलाव लाकर धरती के वातावरण में तेजी से फैले|

 

२.अगर कोरोना वायरस पहले से पृथ्वी पर किसी और प्राणी में मौजूद था तो इससे पहले उसने अपना अस्तित्व क्यों नहीं दिखाया? उत्तर है, की इससे पहले वो था ही नही|

 

३. जब यह वायरस ट्रेवल या एटेक  करते है, तो इनका संचालन कौन करता है? इन सबकी सोच एक जैसे ही कैसे होती है? इसका उत्तर किसी के पास नही| जैसे हजारो छोटी मछलियाँ पानी में या हजारो चिड़ियाँ, या लाखो टिड्डीयाँ हवा में उड़ते है, तो किसी को भी टकराते नही है|उनके गृप को कौन संचालित करता होगा?   

 

४. क्या इससे पहले भी इस प्रकार के एटेक हुए हैं? जवाब है हाँ| इससे पहले भी अनेक अनेक प्रकार के वायरसेस के एटेक हुए हैं| 

 

5. इंसान ने अपने मस्तिष्क का एक्सटेंशन बनाया 'कम्प्यूटर', तो वायरस ने अपने आप को मोडिफाय किया| और 'कम्प्यूटर' में चला गया |

 

६. क्या निरंतर यह लड़ाई चल रही है? जवाब हैं, हाँ| और मजेदार बात यह है, की केवल इंसान ही ऐसी प्रजाति है जो इन एलियंस के एटेक को रोक पाती है |

 

७. लेकिन इस लड़ाई में अन्तिम और निरन्तर विजय इंसान का ही हो यह जरूरी नहीँ| लेकिन वह दिन आते आते और दो पाँच हजार साल निकल जाएंगे |

please visit reiki.ideazunlimited.net

 

 

No comments:

CORONAvirus attack by aliens, here are the details

CORONAvirus attack by aliens, here are the details CORONAvirus COVID-19  हिंदी में पढ़नेके लिए यहाँ क्लिक करे What is Corona vi...